शब्द क्रांति

शब्द से क्रांति मचा देने वाला एक साहित्यिक मंच ।

11 Posts

4 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 23605 postid : 1142262

पोमपोर की घटना पर कायराना हरकत

Posted On: 26 Feb, 2016 न्यूज़ बर्थ में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

जी, हाँ दोस्तों, मैं उस बात का जिक्र कर रहा हूँ जिसमें 23 फरवरी को जम्मू के पोमपोर के एक इमारत में छिपे आतंकियों पर कार्रवाई हुई है । साथ ही जो बातें पढिएगा उससे सुनकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएगा । जिसमें हमारे भारतीय सेना जान जोखिम में डाकर सौ से ज्यादा लोगों को उस इमारत से बाहर निकाला जिसमें आतंकी छिपे थे । सेना ने आतंकियों को मार गिराया । उक्त कार्रवाई में हमारे जाबाज सैनिक भी शहीद हुए, लेकिन वहाँ के कुछेक नवयुवकों ने सैनिक बल पर पत्थर फेके साथ ही आसपास स्थित बहुत से मस्जिदों से पाकिस्तान के समर्थन में नारे भी लगाए गए ।
वाह, यह कौन सा देश है, जिसके सैनिक आपके लिए जान देने के लिए तैयार रहे और आप उलटे उसे हतोत्साहित करें और पथवार करें । हमारे देश में इस तरह की घटना को कुछेक नवयुवकों की भ्रमित मानसिकता बताकर छोड़ दिया जाता है । मस्जिदों से सेना को हतोत्साहित करने वाले नारे लग रहे थे । क्या उसपर कोई कार्रवाई होगी ? होगी भी नहीं क्योंकि इस तरह की बातों को विचारों की अभिव्यक्ति कहा जाता है ।
अगर बचाव में कोई सैनिक हवाई फायरिंग करता है और किसी नागरिक की मौत हो जाती है तब तो हमारे देश के ढपोरसंखी सेकुलर जमात के लोग छाती पीट-पीट कर विधवा विलाप करेंगे, क्योंकि वे उनके वोट बैंक है । वो देश के साथ कुछ भी करे सब माफ है । किसी राजनेता ने तो यहाँ तक कहा है कि सैनिक तो सीमा पर मरने के लिए जाते हैं । यह कोड़ा बकवास है । हाँलाकि यह बात सच है कि इंसान तो जन्म ही इसलिए लेता है कि उनका एक दिन मृत्यु जरूर होगा, लेकिन कायरों की भाँति नहीं, वीर शहीदों की भाँति। अगर किसी भी देश में सबसे ज्यादा विश्वास रहता है तो वह सरकार से ज्यादा सेना पर होता है । सेना बल किसी भी परिस्थिति में हमारे मदद के लिए तैयार रहता है अगर इसी तरह आतंकियों को महिमामंडित किया जाता रहा तो वह दिन भी दूर नहीं होगा जब पूरा भारतवर्ष आतंकियों को गढ़ बन जाएगा ।
तभी मेरे मन से यही उद्गार उत्पन्न होता है ।
“न हमें डर है मस्जिद के इन नारों से,
न हमें डर है तिरगे के बदले लहराने चाँद तारों से,
न डर है नेता जी के आरोप-प्रत्यारोप के वारों से,
हमें तो डर है देश में छिपे छद्म ढपोरसंखी गद्दारों से ।“

“हमें न नक्सलवाद प्यारा है और न हमें तेरे ढपोरसंखी सेकुलरवाद प्यारा है ।
हमारे रगों में जिसका बहता है खून, उस मातृभूमि का राष्ट्रवाद प्यारा है ।“

जय हिन्द
जेपी हंस



Tags:           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran